सफलता: पुलिस ने पकड़ा 50 लाख की अवैध शराब से भरा ट्रक, दो आरोपी गिरफ्तार

0
176

एसओजी टीम व कोतवाली पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर की कार्यवाही
हरियाणा से ललितपुर लाई जा रही थी शराब की खेप
ललितपुर/तालबेहट। पुलिस अधीक्षक कै. मिर्जा मंजर बेग के निर्देशन में सीओ विनोद सिंह ने नेतृत्व में एसओजी टीम और कोतवाली पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर हाइवे तेरई फाटक के नजदीक चैकिंग के दौरान शराब से भरा ट्रक पकड़ा तथा ट्रक के साथ चल रही दो शराब कारोबारियों की कार भी जब्त कर ली। पकड़े गए ट्रक में लाखों रुपये कीमत की देशी शराब के साथ चालक और सहचालक को हिरासत में लिया गया। पकड़े गए दोनों आरोपियों से पूछताछ की जा रही। देर शाम दोनों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। शराब माफिया कार छोड़ कर भाग गए।  बताया गया कि जनपद के विभिन्न सरकारी ठेकों और ग्रामीण क्षेत्रों में हरियाणा निर्मित देशी शराब का कारोबार शराब माफियाओं द्वारा किया जा रहा था। जिसकी रोकथाम के लिए पुलिस कप्तान द्वारा एसओजी टीम को लगाया गया था। शनिवार की सुबह एसओजी टीम को मुखबिर ने सूचना दी कि ट्रक क्रमांक आर. जे. 14 जी.ई. 3582 झाँसी की ओर से ललितपुर की ओर अवैध रूप से हरियाणा निर्मित देशी शराब भरकर ला रहे है। जिसके आगे स्फिट कार तथा पीछे मारुति कार भी ट्रक को सुरक्षित ले जा रहे है। मुखबिर की सटीक सूचना पर एसओजी टीम प्रभारी व कोतवाली पुलिस टीम सक्रिय हुई और हाइवे 44 तेरई फाटक के समीप चैकिंग शुरू कर दी। तभी सामने से स्विट डिजायर कार व ट्रक आते दिखाई दिया। जिस पर तीनों वाहन जान से मारने की नियत से पुलिस चैकिंग तोड़ भागने लगे। पुलिस ने तीनों वाहनों को पीछा कर जमालपुर के समीप पकड़ लिया। मगर कार सवार शराब माफिया भाग गए। पुलिस ने पकडे ट्रक की तलाशी शुरू की तो ट्रक में देशी शराब की पेटियां भरी हुई थी। पुलिस ट्रक को कोतवाली ले आई जहाँ ट्रक और बोरियों में भरी करीब 1100 पेटी शराब हरियाणा निर्मित शराब जिसकी कीमत करीब 50 लाख रुपये है जब्त की गई।  पकड़े गए अभियुक्त मानवेन्द्र सिंह पुत्र राजेन्द्र सिंह निवासी मौठ जनपद झाँसी हिमांशु रैकवार पुत्र रमेश चन्द्र रैकवार निवासी झाँसी बताये गये।  तथा बताया गया कि हरियाणा निर्मित शराब को ले जा रहे शराब माफिया लीलाधर दुबे उर्फ कुल्लू पुत्र स्व. काशी नाथ दुबे निवासी बाँसी तथा कुणाल जैन पुत्र अज्ञात निवासी गोविंद नगर ललितपुर तथा दो अज्ञात युवक मौके का फायदा उठाकर भाग गए। जिनकी पुलिस सरगर्मी से तलाश कर रही है। तो वहीं पुलिस अधीक्षक कै. एमएम बेग ने अवैध शराब का जखीरा पकडने वाली टीम को 25 हजार की ईनाम देकर उत्साहबर्धन किया।
इस टीम को मिली सफलता
कोतवाल मनोज वर्मा,  एसओजी टीम प्रभारी राजकुमार यादव,  चौकी इंचार्ज विनोद कुमार, सर्विलांश टीम प्रभारी गुलाम हुसैन, वरिष्ठ उपनिरीक्षक बचनेश सिंह, है.का. शत्रुंजय सिंह, का. प्रदीप कुमार, का. सुरजीत सिंह समेत कोतवाली पुलिस टीम को सफलता मिली।
सत्ताधारी पार्टी की आड़ मेंं करते अवैध कारोबार
पूर्व जिला पंचायत सदस्य लीलाधर दुबे उर्फ कूल्लू  दुबे पर कईआपराधिक मामले दर्ज होने के बाद भी राजनैतिक  छत्र-छाया की बजह से वह आपराधिक  गतिविधियों में लिप्त बने रहते है। सूबे की सरकार बदलते ही दल  -बदलू नेता व हिस्ट्रीशीटर अपने अवैध कारोबारों   को  चलाने के लिये पार्टी मेंं शामिल हो जाते  है। सत्ताधारी पार्टी का संरक्षण मिलने  के  बाद यह आपराधिक प्रवृत्ति के लोग  आबकारी विभाग  से सांठ-गांठ कर  अन्र्तराज्यीय   शराब तस्करी के कारोबार  अंजाम  देकर  राजस्व को लाखों  रूपये  का चूना लगा रहे है।
आबकारी विभाग के संरक्षण  में फल फूल रहे शराब तस्कर
जहां प्रदेश मेंं कच्ची शराब के सेवन से कई मौते हो जाने के बाद भी जनपद का आबकारी विभाग छोटी-मोटी कार्यवाही कर इतिश्री कर लेता है। इससे यह स्पष्ट होता  है कि आबकारी विभाग के निरीक्षकों द्वारा अवैध शराब के कारोबार को बढ़ावा दिया जा रहा है। पूर्व मेंं भी थाना बार   क्षेत्र में हरयाणा की शराब ले जा रहे शराब तस्करों को पुलिस ने पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेजा था। इसके बावजूद भी आबकारी विभाग का इस  ओर ध्यान न होना उनकी सांठ-गांठ का उजागर करता है। जनपद मेंं बड़े पैमाने पर हरियाणा निर्मित शराब का पुन: बरामद  होना आबकारी विभाग की कार्यप्रणाली पर सवालियां निशान खड़े कर रहा है। आबकाराी विभाग का अवैध शराब कारोबारियोंं से सांठ-गांठ   होने के चलते  राजस्व  विभाग को करोड़ो  का चूना लगा जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here