धारा 370 का हटना देश की एकता एवं संप्रभुता के लिये आवश्यक

0
76

झांसी। बुंदेलखंड विश्वविद्यालय के युवा सांस्कृतिक महोत्सव कलरव-2019 के वक्तृत्व शक्ति और वाद-विवाद प्रतियोगिता के प्रतिभागियों के चयन के लिए आज अर्थशास्त्र और वित प्रबंधन संस्थान में स्क्रीनिंग की गई। इनमें विभिन्न संस्थानों के 50 से अधिक विद्यार्थियों ने उत्साहपूर्वक हिस्सा लिया। कलरव को लेकर विश्वविद्यालय में तैयारियां जारी हैं।
अर्थशास्त्र और वित प्रबंधन संस्थान के डा. अतुल गोयल औरएडीएसडब्ल्यू डा. कौशल त्रिपाठी के संयोजकत्व में आज ‘मेरा भारत’ विषय पर वक्तृत्व शक्ति और ‘जम्मु कश्मीर से धारा 370 हटाने’ विषय पर वाद विवाद प्रतियोगिता के प्रतिभागियों की स्क्रीनिंग अलग अलग हुई। वक्तृत्व शक्ति प्रतियोगिता के लिए हुई स्क्रीनिंग में कुल दस प्रतिभागियों ने अपनी प्रतिभा दिखाई। इसमें 17 विद्यार्थियों ने भाग लिया। प्रतिभागियों ने भारत की गौरव गाथा का वर्णन अपने रचनात्मक विचारों से किया।
वक्तृत्व शक्ति प्रतियोगिता के प्रतिभागियों के चयन के लिए निर्णायक के रूप में हिन्दी विभाग की डा. अचला पाण्डेय और अंग्रेजी विभाग की डा. शिप्रा सक्सेना उपस्थित रहीं। संचालन कलरव आयोजन समिति की सदस्य के डा. सुमिरन श्रीवास्तव ने किया। इसी संस्थान के एक अन्य हाल में वाद विवाद प्रतियोगिता के प्रतिभागियों के चयन के लिए स्क्रीनिंग हुई। इसमें निर्णायक के रूप मंे वनस्पति विज्ञान की डा. गज़ाला रिज्वी और गृृह विज्ञान विभाग की डा. मीनाक्षी सिंह उपस्थित रही। इसमें कुल 35 विद्यार्थियों ने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाया जाना जरूरी था विशय के पक्ष और विपक्ष में अपने तर्क रखे।
ज्यादातर विद्यार्थियों ने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने का समर्थन करते हुए इसे नए युग का सूत्रपात करार दिया। उन्होंने आगे जम्मू कष्मीर में विकास की गति तेज होने की संभावना भी जताई। कुछ ने अनुच्छेद 370 को हटाने की प्रक्रिया के विरोध में भी विचार रखे। इस अवसर पर सांस्कृतिक समन्वयक डा रेखा लगरखा, आयोजन समिति के सदस्य पत्रकारिता विभाग के उमेश शुक्ल, फार्मेसी विभाग के डा. देवेंद्र कुमार और समाजकार्य विभाग के डा. अनूप कुमार समेत अनेक शिक्षक शिक्षिकाएं और विद्यार्थी उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here